‘विकास पर्व’ की गाथा सुनाएंगे ‘सरकार’*‘स्मार्ट सिटी’ के लिए लखनऊ ने मारी बाजी*भोपाल से हैदाराबाद और जबलपुर का हुआ सफर आसान.*दिल्ली के एक गांव में एयर एंबुलेंस की क्रैश लैंडिं*बाराबंकी का ढोंगी बाबा चित्रकूट से गिरफ्तार*नीट:राष्ट्रपति ने दी अध्यादेश को मंजूरी, एक साल...*67 साल की उम्र में महिला ने दिया बच्चे को जन्म*पाक मुल्ला मंसूर पर ईरान, यूएस से भिड़ा*बिना वीजा के कारण पाक नागरिकों को लौटाया*गुजैनी गांव में भी बजेगी शहनाई अब यहां के लड़के...*
सफेद ताज हरा क्यों, हल खोजे:सीएम अखिलेश यादव
वेटिंग टिकट से मिलेगा छुटकारा, कन्फर्म बर्थ देगी रेलवे
जीएम फसलों के परीक्षण पर नहीं लगेगी रोक:जावडेकर
मारा गया मुल्ला मंसूर? ओबामा ने दी थी ऑपरेशन की इजाजत
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
कितनी कॉलोनियां अवैध? जल्द खुलेगा राज
On 9/21/2013 6:56:07 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

भोपाल। बिना डायवर्सन व एनओसी के कृषि भूमि पर प्लॉट काटकर बेचने वालों पर अब एक और पहाड़ टूटने वाला है। उनके द्वारा प्लॉट काटकर बनाई जा रही कॉलोनियों को अवैध की सूची में रखा जाएगा। यहीं नहीं इस सूची को विज्ञापन के तौर पर अखबारों में प्रकाशित कर आम जनता को सचेत भी किया जाएगा कि नवीन निíमत हो रही यह कॉलोनियां अवैध हैं। यहां पर प्लॉट या मकान न खरीदें। इसको लेकर हुजूर एसडीएम ने तैयारी शुरू कर दी है। जल्द ही हुजूर क्षेत्र में बनी और बनाई जा रही अवैध व वैध कॉलोनियों के राज खुल जाएंगे।
किसको अनुमति मिली, किसको नहीं
आचार संहिता लागू होने से पहले अवैध व वैध कॉलोनियों की सूची को प्रकाशित कराने की तैयारी में जुटे हुजूर एसडीएम का कहना है कि इस सूची से सामने आएगा कि विकसित व विकासशील कौन से कॉलोनी के पास सभी अनुमतियां हैं और किसके पास नहीं। इसके अतिरिक्त यह भी सामने आएगा कि किस कॉलोनी में लोग प्लॉट खरीद सकते हैं और किसमें नहीं। इससे लोग ठगे भी नहीं जा सकेंगे। जो अवैध कॉलोनियां सामने आएंगी उनके प्लॉटों के नामांतरण भी नहीं किए जाएंगे, जब तक वह पूरी अनुमतियां नहीं ले लेते।

अवैध कॉलोनी का निर्माण रोकने निकाला नया रास्ता
अधिकारियों की माने तो सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एसडीएम कोर्ट द्वारा अवैध कॉलोनियों के प्लॉट्स की रजिस्ट्री पर जो रोक लगाई थी, वह समाप्त हो गई है, क्योंकि कोर्ट ने निर्देश में कहा है कि स्टांप अधिनियम के तहत रजिस्ट्री पर रोक लगाने का अधिकार किसी को नहीं है। इसके चलते वर्तमान में पंजीयन कार्यालय में अवैध रूप से निर्मित हो रही कॉलोनियों में कम कीमत में खरीदे गए प्लॉटों की अटकी पड़ी रजिस्ट्रियां धड़ल्ले से हो रही है। हालांकि नामांतरण पर रोक अभी भी होने के कारण, जमीन का नामांतरण नहीं हो पा रहा है। अब इन अवैध कॉलोनियों के विकास को रोकने के लिए जिला प्रशासन ने यही नया रास्ता निकाला है। जब आम जनता के सामने आ जाएगा कि कौन सी कॉलोनी वैध है और कौन सी अवैध, तो वह स्वत: ही वैध कॉलोनी में प्लाट या मकान लेने का प्रयास करेंगे। यहीं नहीं कॉलोनाइजर व बिल्डर भी नवीन कॉलोनी विकसित करने से पहले सभी अनुमतियां लेकर वैध कॉलोनी ही बनाने का प्रयास करेंगी।

56 से अधिक कॉलोनियों पर लगाई रोक
कृषि भूमि पर छोटे-छोटे प्लॉट काटकर कॉलोनी विकसित करने वाले कॉलोनाइजर बिना डायवर्सन व अनुमतियों के ही कार्य कर रहे थे। इस पर शिकंजा कसते हुए तत्कालीन एसडीएम ने इनके निर्माण कार्य पर रोक लगाने के साथ-साथ प्लॉट की रजिस्ट्री व नामांतरण पर भी रोक लगा दी थी। पिछले दो साल में 26 गांवों की ऐसी करीब 56 अवैध कॉलोनियां इस सूची में शामिल हैं, जिनके नामांतरण व रजिस्ट्री पर रोक लगाई गई है। यह 56 कॉलोनियां करीब 2000 एकड़ भूमि पर बनाई जा रही थीं। इस रोक के बाद अभी तक एक भी कॉलोनाइजर ने सभी अनुमतियां प्राप्त नहीं की हैं।

Post Comments
More News
स्लाटर हाउस के विरोध में हस्...
हटेंगे सालों से जमे प्राचार्...
पीसीएनडीटी एक्ट के नियम हुए ...
48 घंटे में लू से चौथी मौत...
दिन और रात के पारे में गिराव...
बढ़ रहीं शिकायतें, मिल रहे क...
गैस सिलेंडर की दुकान पर छापा...
इंजीनियरिंग छात्र सट्टा खिला...
सिंहस्थ की वापसी भीड़ से खचा...
मंथन को मिला कलाप्रेमियों का...
18 महीने का वादा, 7 सालों मे...
बचें हेपेटाइटिस से, कहीं जान...
मोदी सरकार की उपलब्धियों को ...
दो पक्षों में विवाद, पुलिस प...
पत्नी से कहा बेटी के कान छिद...
कैसे सुधरेंगे हॉस्टल संचालक ...
मीडिया तीनों स्तंभों की आत्म...
गौर ने सारंगपाणी में सफाई की...
मरीजों को मिलेगी जानकारी कहा...
आग बुझाने चौक बाजार पहुंचे द...
दिन में हम्माली, रात में चटक...
सिंहस्थ वापसी की भीड़ से पटा...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: