नहीं खेलेंगे कोरी एंडरसन, वाटलिंग भी संदिग्ध*क्यूबा के खिलाफ दोस्ताना मैच में खेलेंगे पेले*फिलीपींस के नेल्सन से भिड़ेंगे भारत के नीरज*लाहिड़ी आयरिश ओपन में 46वें स्थान पर*श्रीनिवासन के विरोधी खेमे में डालमिया की घुसपैठ*जमानत पर बाहर आए जैक वार्नर*फोकर विमान के अपहरण करने वालों को फांसी*जज गए कोर्स करने, टली मुंबई हमले की सुनवाई*कश्मीर में अफ्सपा बहुत जरूरी है*सी गेम्स के मैच फिक्सरों की गिरफ्तारियां*
राधाकृष्णन नगर विधानसभा सीट से चुनाव लडेंगी जयललिता
देश में 100 दिनों के अंदर 1 लाख डिजीटल लॉकर खुले
CBSE दसवीं के नतीजे घोषित, बेटियों ने लहराया परचम
कोर्ट से बरी हुए तो लालू प्रसाद होंगे सीएम पद के दावेदार!
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
कितनी कॉलोनियां अवैध? जल्द खुलेगा राज
On 9/21/2013 6:56:07 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

भोपाल। बिना डायवर्सन व एनओसी के कृषि भूमि पर प्लॉट काटकर बेचने वालों पर अब एक और पहाड़ टूटने वाला है। उनके द्वारा प्लॉट काटकर बनाई जा रही कॉलोनियों को अवैध की सूची में रखा जाएगा। यहीं नहीं इस सूची को विज्ञापन के तौर पर अखबारों में प्रकाशित कर आम जनता को सचेत भी किया जाएगा कि नवीन निíमत हो रही यह कॉलोनियां अवैध हैं। यहां पर प्लॉट या मकान न खरीदें। इसको लेकर हुजूर एसडीएम ने तैयारी शुरू कर दी है। जल्द ही हुजूर क्षेत्र में बनी और बनाई जा रही अवैध व वैध कॉलोनियों के राज खुल जाएंगे।
किसको अनुमति मिली, किसको नहीं
आचार संहिता लागू होने से पहले अवैध व वैध कॉलोनियों की सूची को प्रकाशित कराने की तैयारी में जुटे हुजूर एसडीएम का कहना है कि इस सूची से सामने आएगा कि विकसित व विकासशील कौन से कॉलोनी के पास सभी अनुमतियां हैं और किसके पास नहीं। इसके अतिरिक्त यह भी सामने आएगा कि किस कॉलोनी में लोग प्लॉट खरीद सकते हैं और किसमें नहीं। इससे लोग ठगे भी नहीं जा सकेंगे। जो अवैध कॉलोनियां सामने आएंगी उनके प्लॉटों के नामांतरण भी नहीं किए जाएंगे, जब तक वह पूरी अनुमतियां नहीं ले लेते।

अवैध कॉलोनी का निर्माण रोकने निकाला नया रास्ता
अधिकारियों की माने तो सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एसडीएम कोर्ट द्वारा अवैध कॉलोनियों के प्लॉट्स की रजिस्ट्री पर जो रोक लगाई थी, वह समाप्त हो गई है, क्योंकि कोर्ट ने निर्देश में कहा है कि स्टांप अधिनियम के तहत रजिस्ट्री पर रोक लगाने का अधिकार किसी को नहीं है। इसके चलते वर्तमान में पंजीयन कार्यालय में अवैध रूप से निर्मित हो रही कॉलोनियों में कम कीमत में खरीदे गए प्लॉटों की अटकी पड़ी रजिस्ट्रियां धड़ल्ले से हो रही है। हालांकि नामांतरण पर रोक अभी भी होने के कारण, जमीन का नामांतरण नहीं हो पा रहा है। अब इन अवैध कॉलोनियों के विकास को रोकने के लिए जिला प्रशासन ने यही नया रास्ता निकाला है। जब आम जनता के सामने आ जाएगा कि कौन सी कॉलोनी वैध है और कौन सी अवैध, तो वह स्वत: ही वैध कॉलोनी में प्लाट या मकान लेने का प्रयास करेंगे। यहीं नहीं कॉलोनाइजर व बिल्डर भी नवीन कॉलोनी विकसित करने से पहले सभी अनुमतियां लेकर वैध कॉलोनी ही बनाने का प्रयास करेंगी।

56 से अधिक कॉलोनियों पर लगाई रोक
कृषि भूमि पर छोटे-छोटे प्लॉट काटकर कॉलोनी विकसित करने वाले कॉलोनाइजर बिना डायवर्सन व अनुमतियों के ही कार्य कर रहे थे। इस पर शिकंजा कसते हुए तत्कालीन एसडीएम ने इनके निर्माण कार्य पर रोक लगाने के साथ-साथ प्लॉट की रजिस्ट्री व नामांतरण पर भी रोक लगा दी थी। पिछले दो साल में 26 गांवों की ऐसी करीब 56 अवैध कॉलोनियां इस सूची में शामिल हैं, जिनके नामांतरण व रजिस्ट्री पर रोक लगाई गई है। यह 56 कॉलोनियां करीब 2000 एकड़ भूमि पर बनाई जा रही थीं। इस रोक के बाद अभी तक एक भी कॉलोनाइजर ने सभी अनुमतियां प्राप्त नहीं की हैं।

Post Comments
More News
चोरी की एक्टिवा बेचने की फिर...
व्हाट्सएप कॉलिंग से वारदात क...
हैलो, मैं एसपी श्रीवास्तव मै...
राजधानी में पुण्यतिथि पर याद...
पत्नी ने कहा, मेरा पति चाल्र...
सवालों के घेरे में शिक्षकों ...
चार और पुलिसकर्मियों से भी क...
पीए ने कहा, कोरे कागज पर साइ...
एडीजी के पीए के घर 15 लाख की...
पंजाब मेल की महिला बोगी से ढ...
नौतपा के तीसरे दिन झुलसाया त...
मैनिट बीओजी अध्यक्ष ने निदेश...
सामान्य होने के बाद भी कम दब...
सर्वर डाउन, रेलवे की टिकट खि...
मैगी मसाला, मैगी वेज ओस्ट व ...
गरीब के आशियानों पर राजनीति...
नाबालिग की दोगुने उम्र के दू...
बेलदार ने बेची सरकारी जमीन...
पीठ पर लगाया हाथ तो खून से र...
शिवराज ने दिया जयवर्धन-सृजाम...
राजधानी में केंद्र सरकार के ...
चाकू पर नहीं मिले किसी के फि...
मैंने बहू को मार डाला...
अब हार्ट अटैक की मिलेगी सस्त...
अवमानना याचिका पर सुनवाई का ...
गर्मी ने छुड़ाए पसीने...
मैनिट के निदेशक और कुलसचिव आ...
भोपाल के बाद इंदौर में खुलेग...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: