सीआरपीएफ की तीन महिला कर्मियों की मौत*टीवी अभिनेत्री से गाली-गलौज, कार पर हमला*शताब्दी एक्सप्रेस में सफर करना होगा और सुहाना*100 कैदियों के लिए गर्मी में खास इंतजाम*मोदी को हर रात घर लाने के लिए 3 विमान रहते है तैया*महाराजगंज के चुनावी मैदान से हटे राबड़ी के भाई साध*बीजेपी का गुजरात मॉडल धोखा*यूक्रेन में तनाव कम करने में रूस विफल*चीन में भारतीय नौसेना के पोत को देखने उमड़े लोग*द. कोरिया पोत हादसा: मृतकों की संख्या 150 पहुंची*
अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की हालत बेहद नाजुक बताई जा रही है
मिनी स्कर्ट पहन कर विदेशियों के जामा मस्जिद में घुसने की घ
लंबे समय से एक-दूसरे के साथ डेट कर रहे फिल्मकार आदित्य चोप
जब 40 मंजिला इमारत से लटक गए सलमान खान
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
रेफर मरीजों को इलाज में दिक्कतें
On 4/17/2012 6:32:41 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

भोपाल। पेट के इलाज के लिए सागर जिले के देबरी से आई कौशल्या बाई को इंडोस्कॉपी कराना थी, लेकिन हमीदिया अस्पताल में यह मशीन तीन साल से खराब है। बीपीएल कार्ड होने के बाद भी इसे एक निजी चिकित्सा संस्थान में जांच कराना पड़ी, जिसमें ढाई हजार रुपए लग गए। यही स्थिति रामलाल रैकवार की रही जो विदिशा जिले की ग्यारसपुर से हार्ट के इलाज के लिए हमीदिया आया था, लेकिन इसकी टीएमटी जांच नहीं हो पाई। ऐसे कई मरीज हैं जो बाहर से हमीदिया, कमला नेहरू, सुल्तानिया सहित अन्य अस्पतालों में रेफर होकर अथवा स्वत: इलाज के लिए पहुंचते हैं, लेकिन उन्हें प्रापर इलाज नहीं मिल पा रहा है। ऐसे मरीजों का दर्द है कि इससे तो वह वहीं अच्छे थे, जहां पहले उनका इलाज चल रहा था।

तीव्र गति से नहीं हो रहा काम

मेडिकल कॉलेज की स्वशासी समिति की बैठक में यह निर्णय लिया जा चुका है कि कई चिकित्सा उपकरण पीपीपी माडल से लगवा लिए जाएं और गामा कैमरा, सीटी स्केन जैसी महत्वपूर्ण जांचें अस्पताल में ही की जाएं इसके लिए नए चिकित्सा उपकरण क्रय किए जाएं, लेकिन चिकित्सा उपकरण खरीदी की रफ्तार धीमी है। इससे मरीजों को नुकसान हो रहा है।

निजी अस्पतालों को मिल रहा लाभ

यह स्थिति केवल हमीदिया की ही नहीं है बल्कि राजधानी के लगभग सभी अस्पतालों की है जहां जांच के लिए चिकित्सा उपकरण नहीं हैं। मरीजों को जांच बाहर से कराना पड़ रही हैं और मरीजों को निजी चिकित्सा संस्थानों में मनमानी कीमत चुकाना पड़ रही है। जेपी में एक्सरे मशीन ने जवाब दे दिया है तो सुल्तानिया में सोनोग्राफी के लिए गर्भवती महिलाएं परेशान हो रही है।

यह मशीनें हैं खराब

एंडोस्कोपी

-- कब से - दो साल से

-- काम - पेट की जांच

-- कितने मरीज प्रतिदिन - 20 से 30

-- निजी चिकित्सा संस्थानों में जांच की फीस - एक से दो हजार रुपए

टीएमटी

-- कब से - तीन साल से

-- काम -ह्दय में आक्सीजन की कमी एवं धड़कन की जांच

-- कितने मरीज प्रतिदिन - 20 से 30

-- निजी चिकित्सा संस्थानों में जांच की फीस - 350 से 500 रुपए

सीटी स्केन

-- कब से - हमीदिया में यह मशीन नहीं है, कमला नेहरू अस्पताल की मशीन पर कराना पड़ती है। यह मशीन भी 6 माह चलती है और 6 माह खराब पड़ी रहती है।

-- कारण - मशीन की उम्र पूरी हो चुकी है

-- काम - शरीर के किसी भी हिस्से की जांच की जा सकती है।

-- कितने मरीज प्रतिदिन - 30 से 40

-- निजी चिकित्सा संस्थानों में जांच की फीस - 2 से 3 हजार रुपए

कैथ लैब रिकार्डर

-- कब से - दो साल से

-- काम - हार्ट की एंजीयोग्राफी की रिकार्डिग कर सीडी तैयार की जाती है। इसे देखकर ही बायपास सर्जरी की जाती है।

-- कितने मरीज प्रतिदिन - 20 से 30

-- निजी चिकित्सा संस्थानों में जांच की फीस - 10 से 12 हजार रुपए

आडियोमेट्री

-- कब से - तीन साल से

-- काम - बहरेपन की जांच

-- कितने मरीज प्रतिदिन - 15 से 20

-- निजी चिकित्सा संस्थानों में फीस - 250 से 300 रुपए

टीयूआर

-- कब से - 6 माह से

-- काम - प्रोस्टेट की जांच

-- कितने मरीज प्रतिदिन - 20 से 30

-- निजी चिकित्सा संस्थानों में जांच की फीस - जांच सहित करीब 15 हजार में इसका ऑपरेशन किया जाता है।

गामा कैमरा

-- कब से - चार साल से

-- काम - शरीर के किसी भी हिस्से की संपूर्ण जांच की जाती है

-- कितने मरीज प्रतिदिन - कैंसर एवं रेडियोलॉजी विभाग में

हर दिन 5 से 10 मरीज पहुंचते हैं।

-- निजी चिकित्सा संस्थानों में जांच की फीस - यह कैमरा राजधानी में केवल जवाहर लाल कैंसर अस्पताल में है। जहां एक जांच के 5 से 7 हजार रुपए लगते हैं। जबकि हमीदिया में केवल 500 रुपए में जांच की जाती थी।

Post Comments
More News
निकाले जाएंगे जीएमसी के 25 फ...
शासकीय जमीन खोजने सेटेलाइट स...
एटीकेटी में नहीं हो पाया निर...
मुंबई के लिए अब रेल यात्रियो...
ट्रक- टवेरा भिड़े, आठ घायल...
एएसआई पर हिस्ट्रीशीटर ने किय...
गांव-गांव में लग रहा आईपीएल ...
आंधी, बारिश और अंधेरे में शह...
दोनों पोलिंग बूथों पर 63.85 ...
करोंद में सर्व ब्राrाण समाज ...
सुविधा से दूर हो गई टोकन प्र...
खुदाई तो हो गई, कब डलेगी पाइ...
जब कमिश्नर खुद काटने लगे रसी...
बीपीएड कॉलेजों की जल्द होगी ...
दरवाजे पर चैकिंग फिर हाल में...
अंडमान एक्सप्रेस के पार्सल क...
एक्सीडेंट ने उजाड़ दी कोख...
एमपी नगर के होटलों पर गिरेगी...
विवेक मृदुल का काव्य संग्रह ...
11 हजार करोड़ का भुगतान करे ...
नई पीढ़ी के लिए विशाल जैन सभ...
ट्रक की टक्कर से पत्रकार घाय...
दिल्ली से एयर ट्रैफिक कंट्रो...
बूटा को लेकर बीयू में ठनी...
सपा नेता ने ट्रेन से कटकर की...
ईस्टर संडे पर शहर में हुई वि...
जबलपुर और ग्वालियर ने अब तक ...
हायर सेकंडरी गणित की परीक्षा...
हवा की रफ्तार से थमी राजधानी...
तो क्या दवाएं वार्ड बॉय बाटे...
सत्संग से ही मानव जीवन बनता ...
एआईसीटी देगा अब इंजीनियरिंग ...
कैमरे लगाने बीयू को किसी घटन...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: