सुपर-100 में चयन हेतु काउंसिलिंग आज*पनागर में विशेष मतदाता शिविर आज*वार्ड परिसीमन को लेकर मांगे सुझाव*आरडीयू में प्रारंभ होगा प्रो. दुबे स्मृति पुरस्कार*प्रबंधन को अब सुध आ रही पीएफ की*प्रशासन तंत्र की अहम कड़ी हैं राजस्व अधिकारी : कले*समाज में बनाएं शिक्षकों की बेहतर छवि: प्रांताध्यक्*सहायक अध्यापकों की वरिष्ठता में गोलमाल*बाहर से लौटे तो घर लुटा मिला*मजदूर ने लगाई फांसी*
सैन्य कंपनियों को काली सूची में डालना खतरा-- जेटली
योगी आदित्यनाथ के बिगड़े बोल पर राजनीतिक उबाल
कोलगेट मामला:सुप्रीम कोर्ट के समक्ष ‘इधर कुआं उधर खाई’
आइसलैड के बरदारबंगा ज्वालामुखी इलाके में भूकंप
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
बदलते मौसम ने बढ़ाई बीमारी
On 5/14/2012 10:21:37 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

ग्वालियर । मौसम में लगातार होते बदलाव के चलते मौसमी बीमारियों ने पांव पसारने शुरू कर दिए हैं। जेएएच के मेडिसिन विभाग में अत्याधिक मरीजों की संख्या के चलते पलंग कम पड़ रहे हैं। अस्पताल प्रबंधन को मजबूरन मरीजों को जमीन पर लिटाना पड़ता है। डॉक्टरों के अनुसार बदलते मौसम में जरा सी भी लापरवाही उल्टी, दस्त, पीलिया का कारण बनती है।

दिन में चिलचिलाती धूप एवं रात में मौसम ठंडा होने से लोग बीमार पड़ रहे हैं। तापमान में 12 से15 डिग्री का अंतर बना होने से लोग मौसमी बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। जयारोग्य अस्पताल के मेडिसिन वार्ड में 231 पलंग है, जबकि यहां 262 मरीज भर्ती हैं। हालत यह है कि डॉक्टर कुछ राहत मिलते ही मरीजों को डिस्चार्ज कर देते हैं। डॉक्टरों के अनुसार मौसम में बदलाव होने के कारण लोगों के शरीर का तापमान कम ज्यादा हो रहा है और यही वजह बीमारियों का कारण बन रही है।

ओपीडी में रोगियों की भरमार

गर्मी का मौसम शुरू होते ही मरीजों की संख्या में अत्यधिक इजाफा हो जाता है। वर्तमान में जेएएच की ओपीडी में मरीजों की संख्या 1000 तक पहुंच गई है और आने वाले दिनों में यह आंकड़ा 1200 से अधिक हो जाएगा। ओपीडी में पहुंचने वाले मरीजों में मौसमी बीमारियों से पीड़ितों की संख्या 260 के लगभग है।

इनका कहना

यह बात सही है कि ओपीडी में मरीजों संख्या डेढ़ गुना बढ़ गई है। सबसे ज्यादा मरीज मेडिसिन विभाग में भर्ती हैं। मरीजों की संख्या पंलग से ज्यादा होने के कारण उन्हें जमीन पर लिटाना पड़ रहा है। मरीजों को कोई परेशानी न हो, इसके लिए वार्डो में कूलर एवं पंखे लगाए हैं।

डॉ. कमल भदौरिया, सहायक अधीक्षक एवं प्रवक्ता, जेएएच

इस मौसम में संख्या बढ़ती है। व्यायाम, वॉक एवं ताजा भोजन करें। धूप में ज्यादा रहना, तुंरत ठंडा पानी पीने से परहेज जरूरी है।

डॉ. अजय पाल सिंह, एसो. प्रो., जेएएच

Post Comments
More News
सड़कों से हटाएं अस्थाई अतिक्...
बच्चों ने फैलाया पानी, पिता-...
पोषण सप्ताह को बनाएं सार्थक ...
आधी रात के बाद तीन घण्टे गुल...
डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण आज स...
500 करोड़ से मिलेगा हैरिटेज ...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: