बीमा कंपनियों को 75 प्रतिशत मंजूरी प्रदान कर दी*भाजपा ने बागियों को टिकट नहीं दिया: गोयल....*सिंचाई परियोजनाओं के बारे में मिश्रा की भारती से..*अश्विन काफी महत्वपूर्ण खिलाड़ी: वाटमोर...*ब्लूटुथ,कीबोर्ड से कनेक्ट होने वाला डिटैचेबल टैबले*माली के सैन्य शिविर में कार बम विस्फोट, 25 मरे*हरदोई में हुई सड़क दुर्घटना में छात्र की मौत*बाराबंकी:भांग ठेकेदार ने शराब ठेकेदार को गोली मारी*साइबर अपराध की घटनायें बढ़ी*नक्सलियों ने की सरपंच की धारदार हथियार से हत्या*
‘हॉल ऑफ फेम’ क्लब में शामिल हुए कपिल देव
शीना बोरा मर्डर इंद्राणी, पीटर मुखर्जी पर हत्या के आरोप तय
चाँद पर उतरने वाले जीन सरनान का निधन
दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण कार्य शुरू
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
सवालों के दायरे में है केंद्र सरकार की मंशा
On 6/8/2012 8:23:05 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

कांग्रेस के नेतृत्व वाली धर्मनिरपेक्षयूपीए सरकार आजकल सच्चर कमेटी की सिफारिशों वाली फाइल के पन्ने कुछ ज्यादा ही तेजी से उलटने-पलटने लगी है। बताते चलें कि केंद्र सरकार ने सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजिंदर सच्चर की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया था, 9 मार्च-2005 को। इस समिति को काम यह सौंपा गया था कि वह देश के मुस्लिमों की आर्थिक, शैक्षिक और सामाजिक स्थिति का पता लगाए। बहरहाल, समिति ने अपनी सिफारिशें नवंबर-2006 में सरकार को सौंप दी थीं। अब माजरा यह है कि हमारी सरकार जब-तब सनकती व सच्चर समिति की सिफारिशें खोलकर बैठ जाती है, जबकि देश में एक बड़े वर्ग का मानना यह भी है कि सच्चर समिति की सिफारिशें देश के धर्मनिरपेक्ष ढांचे के अनुकूल बिलकुल नहीं हैं। हम नहीं कह सकते कि यह धारणा सही है या गलत, पर शुक्रवार को केंद्र ने राज्यों को जिस एक सिफारिश को लागू करने के लिए पत्र लिखा है, उस सिफारिश को सही नहीं माना जा सकता।

केंद्रीय गृह सचिव ने सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों को पत्र लिखकर कहा है कि वे सच्चर समिति की सिफारिशों के अनुरूप मुस्लिम बहुल इलाकों के थानों में कम से कम एक मुस्लिम इंस्पेक्टर या सब-इंस्पेक्टर की नियुक्ति जरूर करें, ताकि मुस्लिमों का भरोसा जीता जा सके। यहां दो चुभते हुए सवाल पैदा होते हैं? एक-क्या पुलिस को सांप्रदायिक नजरिए से देखना उचित है? यदि है, तो क्या आगे मुस्लिम न्यायाधीश, मुस्लिम प्रशासनिक अधिकारी आदि की मांग नहीं उठेगी? दूसरा सवाल, क्या मुस्लिम भारतीय शासन-प्रशासन और भारतीयता पर भरोसा नहीं करते हैं? यदि करते हैं, तो चिट्ठी या फिर सच्चर समिति की सिफारिशों में मुस्लिमों का भरोसा जीतने की बात क्यों कही गई है? जरूरत इस बात की है कि सरकार से इन सवालों के जवाब मांगे ही जाएं।

Post Comments
More News
बढ़ती आर्थिक विषमता गंभीर सम...
लड़ाई अभी बाकी है अखिलेश!...
छोटी घटना नहीं जायरा की माफी...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: