प्रधानमंत्री मोदी के पास नहीं है ई-मेल आईडी*व्यवसायी ने एंप्लॉयीज को गिफ्ट कीं कारें*आप में बगावत का सिलसिला जारी, मयंक ने खोला मोर्चा*बैन के बावजूद बीबीसी ने दिखाई निर्भया डॉक्यूमेंट्र*गरीबों को बिजली केंद्र की प्राथमिकता*न्यूजीलैंड ने पड़ोसी द्वीपों पर जासूसी की: स्नोडेन*कॉरपोरेट जासूसी: छह आरोपियों की कस्टडी बढ़ी*महाराष्ट्र में मुस्लिमों को अब नहीं मिलेगा आरक्षण*भूमि अधिग्रहण बिल का विरोध करेगी शिवसेना*स्मिनु ने चूमा कामयाबी का शिखर*
किसानों की भूमि उनकी मर्जी के बिना नहीं लेने दी जाएगी
अशोक चव्हाण की आदर्श घोटाले से नाम हटाने की याचिका खारिज
मोदी सरकार को झटका,प्रणब दा का इजरायल जाने से इंकार!
रोबोट ने किया किडनी के कैंसर का सफल ऑपरेशन
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
जीओएम की मंजूरी जर्मनी में जलेगा यूका का कचरा
On 6/8/2012 9:52:16 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

नई दिल्ली । यूनियन कार्बाइड का 350 मीट्रिक टन विषैली कचरा जर्मनी में ठिकाने लगाने को मंत्रिसमूह ने शुक्रवार को मंजूरी दे दी। फैसले के अनुसार केन्द्र सरकार कचरे को विमान से भेजने में आने वाली 25 करोड़ रुपए की लागत वहन करेगी। कचरे को साल भर में ठिकाने लगा दिया जाएगा।

भोपाल गैस त्रसदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री बाबू लाल गौर ने कहा कि केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम की अध्यक्षता वाले मंत्रीसमूह ने राज्य सरकार से कहा है कि वह दो सप्ताह के भीतर इस संबंध में समझौते के कागजात तैयार करे। गौर ने बैठक के बाद कहा कि प्रस्ताव पर सहमति बन चुकी है। कचरे को जर्मनी भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अगली बैठक से पहले केन्द्र को समझौते के कागजात सौंपेगी।

मप्र सरकार के अधिकारियों के मुताबिक कचरे को जर्मनी की एजेंसी जीआईजेड आईएस ठिकाने लगाएगी। फिलहाल यह कचरा भोपाल में पूर्व की मेसर्स यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड के परिसर में पड़ा है।

Post Comments
More News
गरीबों को बिजली केंद्र की प्...
बैन के बावजूद बीबीसी ने दिखा...
आप में बगावत का सिलसिला जारी...
व्यवसायी ने एंप्लॉयीज को गिफ...
आप की पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी...
लोन लेना होगा सस्ता!...
निर्भया कांड के आरोपी के इंट...
सिंगाजी थर्मल पावर प्रोजेक्ट...
कोयला खान विधेयक 2015 को लोस...
लोकतंत्र में धमकी ना चली है,...
ईपीएफओ वालों के लिए आवास योज...
अफजल के साथ हुआ था अन्याय...
आंतरिक कलह से दुखी हैं केजरी...
रेत खनन नीति 2015 मंजूर...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: