गोमांस पर देश भर में प्रतिबंध नहीं : अमित शाह*दुल्हन चली पहन चली तीन रंग की चोली*हिन्द महासागर में भारत के रडार पर है चीन*राजस्थान: सरिस्का में निजी वाहनों का प्रवेश बंद*भारतीय मूल की शिक्षिका को ऑक्सफोर्ड अवॉर्ड*वैष्णो देवी गई श्रद्धालु ने बच्चे को जन्म दिया*भारत में 19 करोड़ से ज्यादा लोगों को नहीं मिलता है*मानव की नई प्रजाति का पता चला*भीषण गर्मी ऊपर से पेयजल संकट, जनता बेहाल*लू से आंध्र- तेलंगाना में 1400 लोगों की मौत*
CBSE दसवीं के नतीजे घोषित, बेटियों ने लहराया परचम
कोर्ट से बरी हुए तो लालू प्रसाद होंगे सीएम पद के दावेदार!
धर्म के नाम पर किसी के साथ भेदभाव उचित नहीं: भाजपा
हाईटेंशन लाइन टूटी, लकड़ी के दो टाल खाक, बचा पेट्रोल पंप
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
तीन माह में तीन कार्यवाही तक सीमित
On 6/15/2012 8:28:20 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

जबलपुर। वाणिज्यिक कर विभाग में इन दिनों जहां स्थानांतरण का दौर चल रहा है, वहीं अधिकारियों की उदासीनता या कहें कि राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते औचक निरीक्षण से लेकर छापा कार्यवाही तक के काम लगभग ठप पड़े हैं। स्थिति यह है कि वित्तीय वर्ष 2012-13 की पहल तिमाही गुजरने को है, लेकिन अब तक विभागीय अमले ने सिर्फ 3 स्थानों पर छापा कार्यवाही की है, वहीं पैनाल्टी वसूली का आंकड़ा 4 करोड़ रुपए के करीब है, जबकि इस वक्त तक यहा आंकड़ा इसे तीन से चार गुना अधिक होना चाहिए था।। खास बात यह है कि वाणिज्यिक कर की टीम को मुख्यालय से लेकर अधिकारियों तक के द्वारा जांच के दौरान नरम रुख अपनाने और सख्ती न करने के मौखिक आदेश दिये जा रहे हैं।गौरतलब है कि इन दिनों वाणिज्यिक कर की टीम को इंदौर स्थित मुख्यालय से काम करने की स्वतंत्रता न मिल पाने की वजह से जहां विभागीय अमला असहाय महसूस कर रहा है, वहीं शासकीय राजस्व को भी भारी नुकसान हो रहा है। सूत्रों की माने तो हालात यह है कि बीते दो माह से उन्हें किसी भी प्रकार की कार्यवाही न करने के आदेश है। यदि अधिकारियों की टीम जांच के लिए निकलती भी है तो उन्हें उपायुक्त स्तर के अधिकारियों से अनुमति लेनी होती है, जबकि नियमानुसार जांच पर निकले सीटीओ को पैनाल्टी वसूली करने के अधिकार प्राप्त होते हैं।

 

अब व्यापारियों की रहेगी चांदी

वाणिज्यिक कर अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि एक तरफ मुख्यालय से संभागीय कार्यालय को टारगेट दिये जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ कर चोरी कर रहे व्यापारियों के खिलाफ कार्यवाही न करने के मौखिक आदेश प्रदेश के बड़े नेता देते हैं। मुख्यालय में बैठे अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि यदि खुलकर बोले तो अब आगामी विधानसभा चुनाव तक व्यापारियों की चांदी होगी और वाणिज्यिक कर विभाग की तरफ से कोई बड़ी कार्यवाही किये जाने की संभावना कम होगी, जिसकी वजह व्यापारियों और राजनेताओं के बीच की सैटिंग है।

छापा मारने के पूर्व चाहिए एश्योरेंस

अधिकारियों की माने तो वे संभागीय स्तर किसी भी व्यापारी के खिलाफ छापा कार्यवाही करने प्रस्ताव भेजते हैं तो उनसे इस बात का स्पष्ट एश्योरेंस मांगा जाता है कि यदि पैनाल्टी एक करोड़ की होती है तब तो ठीक है वर्ना अनुमति मिलना मुश्किल होता है। अधिकारी बताते है कि कोई भी छापा कार्यवाही दस्तावेजों और शक के आधार पर की जाती है। ऐसे में पहले से किसी भी आंकड़े पर एश्योर कर पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है।

Post Comments
More News
फुहारा क्षेत्र की सड़कों से ...
विभागों की जांच में जुटी मेड...
रेलवे ट्रैक पर मिली महिला की...
बढ़ई घाटी में गिरा वाहन...
सर्प विशेषज्ञों के घर पर होग...
सीईओ को थप्पड़ मारने वाले ने...
जबलपुर की लाड़ली ने कंगना को...
मनेरी औद्योगिक क्षेत्र पहुंच...
जनकल्याण पर्व के रूप में मना...
लक्ष्य के निर्धारण से मिलती ...
जनकल्याण पर्व के रूप में मना...
परिश्रम से बनाई नई मंजिलों क...
तीन बसों में नहीं मिली आपातक...
आईपीएल पर लग रहे थे दांव...
अतिक्रमण की कार्रवाई से मचा ...
पानी के लिए बहाया खून, सात घ...
शराब व्यवसायी के ऑफिस से 18 ...
नाबालिग का अपहरण कर दुराचार ...
क्षेत्रीय बस स्टैंड में दो प...
परफॉरमेंस के लिए लगी होड़...
नहीं तपा, नौतपा का पहला दिन...
मूक बधिरों का प्रदेश स्तरीय ...
शुरू होंगे मनरेगा के नए कार्...
नगर निगम का प्रस्ताव विद्युत...
शून्य कक्षाओं में मिलेगा कॅर...
कृषि महोत्सव का शुभारंभ, दुल...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: