बीमा कंपनियों को 75 प्रतिशत मंजूरी प्रदान कर दी*भाजपा ने बागियों को टिकट नहीं दिया: गोयल....*सिंचाई परियोजनाओं के बारे में मिश्रा की भारती से..*अश्विन काफी महत्वपूर्ण खिलाड़ी: वाटमोर...*ब्लूटुथ,कीबोर्ड से कनेक्ट होने वाला डिटैचेबल टैबले*माली के सैन्य शिविर में कार बम विस्फोट, 25 मरे*हरदोई में हुई सड़क दुर्घटना में छात्र की मौत*बाराबंकी:भांग ठेकेदार ने शराब ठेकेदार को गोली मारी*साइबर अपराध की घटनायें बढ़ी*नक्सलियों ने की सरपंच की धारदार हथियार से हत्या*
‘हॉल ऑफ फेम’ क्लब में शामिल हुए कपिल देव
शीना बोरा मर्डर इंद्राणी, पीटर मुखर्जी पर हत्या के आरोप तय
चाँद पर उतरने वाले जीन सरनान का निधन
दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण कार्य शुरू
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
तीन माह में तीन कार्यवाही तक सीमित
On 6/15/2012 8:28:20 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

जबलपुर। वाणिज्यिक कर विभाग में इन दिनों जहां स्थानांतरण का दौर चल रहा है, वहीं अधिकारियों की उदासीनता या कहें कि राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते औचक निरीक्षण से लेकर छापा कार्यवाही तक के काम लगभग ठप पड़े हैं। स्थिति यह है कि वित्तीय वर्ष 2012-13 की पहल तिमाही गुजरने को है, लेकिन अब तक विभागीय अमले ने सिर्फ 3 स्थानों पर छापा कार्यवाही की है, वहीं पैनाल्टी वसूली का आंकड़ा 4 करोड़ रुपए के करीब है, जबकि इस वक्त तक यहा आंकड़ा इसे तीन से चार गुना अधिक होना चाहिए था।। खास बात यह है कि वाणिज्यिक कर की टीम को मुख्यालय से लेकर अधिकारियों तक के द्वारा जांच के दौरान नरम रुख अपनाने और सख्ती न करने के मौखिक आदेश दिये जा रहे हैं।गौरतलब है कि इन दिनों वाणिज्यिक कर की टीम को इंदौर स्थित मुख्यालय से काम करने की स्वतंत्रता न मिल पाने की वजह से जहां विभागीय अमला असहाय महसूस कर रहा है, वहीं शासकीय राजस्व को भी भारी नुकसान हो रहा है। सूत्रों की माने तो हालात यह है कि बीते दो माह से उन्हें किसी भी प्रकार की कार्यवाही न करने के आदेश है। यदि अधिकारियों की टीम जांच के लिए निकलती भी है तो उन्हें उपायुक्त स्तर के अधिकारियों से अनुमति लेनी होती है, जबकि नियमानुसार जांच पर निकले सीटीओ को पैनाल्टी वसूली करने के अधिकार प्राप्त होते हैं।

 

अब व्यापारियों की रहेगी चांदी

वाणिज्यिक कर अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि एक तरफ मुख्यालय से संभागीय कार्यालय को टारगेट दिये जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ कर चोरी कर रहे व्यापारियों के खिलाफ कार्यवाही न करने के मौखिक आदेश प्रदेश के बड़े नेता देते हैं। मुख्यालय में बैठे अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि यदि खुलकर बोले तो अब आगामी विधानसभा चुनाव तक व्यापारियों की चांदी होगी और वाणिज्यिक कर विभाग की तरफ से कोई बड़ी कार्यवाही किये जाने की संभावना कम होगी, जिसकी वजह व्यापारियों और राजनेताओं के बीच की सैटिंग है।

छापा मारने के पूर्व चाहिए एश्योरेंस

अधिकारियों की माने तो वे संभागीय स्तर किसी भी व्यापारी के खिलाफ छापा कार्यवाही करने प्रस्ताव भेजते हैं तो उनसे इस बात का स्पष्ट एश्योरेंस मांगा जाता है कि यदि पैनाल्टी एक करोड़ की होती है तब तो ठीक है वर्ना अनुमति मिलना मुश्किल होता है। अधिकारी बताते है कि कोई भी छापा कार्यवाही दस्तावेजों और शक के आधार पर की जाती है। ऐसे में पहले से किसी भी आंकड़े पर एश्योर कर पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है।

Post Comments
More News
एनएसयूआई ने किया कैशलेस प्रण...
जर्जर नहरों पर खुशहाली का बो...
पिकअप वाहन से टकराई बाइक, दो...
लगातार हादसे का शिकार हो रहे...
चिमनी की आग ने ली दम्पति की ...
बेखौफ बिक रहा मौत का डोज...
विज्ञापन कर वसूलने उठाने हों...
कटनी में आज प्रदर्शनकारियों ...
अनशन पर बैठे सेना के जवान की...
शासन की छात्रवृत्ति योजनाओं ...
‘मन तो रोया होगा’ पुस्तक का ...
शिक्षा से ही चरित्र निर्माण ...
दो बाइक टकराई जिससे 2 की मौत...
तापमान में बढ़त, लेकिन सर्दी...
पमरे को बजट में 18 अरब की दर...
जब कार्यकर्ता मजबूत होगा तभी...
पिकअप वाहन से टकराई बाइक, दो...
ट्रैक्टर से गिर जाने से युवक...
कांग्रेसियों ने दी गिरफ्तारि...
रेल फै्रक्चर रोकने पांच हजार...
आसान हुआ घुटने का ऑपरेशन...
विकास सरकार का संकल्प...
लड़कियों को सरेराह छेड़ते हु...
एनएसयूआई ने किया कैशलेस प्रण...
जर्जर नहरों पर खुशहाली का बो...
सूपाताल में सन् 1967 से अनवर...
शिकायतकर्ता से सीधे बात करने...
नहीं करो रेलवे में नई भर्ती,...
कांच उद्योग की असीमित संभावन...
नए वर्जन में कैसे फाइल करें ...
अपने ही आशियानों पर नगर निगम...
महिला नर्सो को 65 साल में रि...
चार बांध बनने से जलमग्न होंग...
प्रदेश के एटीएस में घट रही ज...
अब यूको बैंक में सेंधमारी...
कलेक्ट्रेट में प्रशासनिक सर्...
वर्ग दो में समायोजन करने की ...
उपेक्षा का शिकार तालाब...
महिला ने बच्चों के साथ आग लग...
दो शातिर लुटेरे पुलिस की गिर...
बेटे की हत्या कर भाई और बाप ...
प्रतिभा पर्व पर 30 करोड़ हों...
चाट खाने को लेकर विवाद पर कि...
आगे बढ़ने गुरुओं का मार्गदर्...
प्रगतिशील समाज में स्वीकार न...
अरब सागर से आ रही नमी ने बढ़...
ट्रक चालक ने मचाया कोहराम...
पुलिस ने चलाया ऑपरेशन शिकंजा...
नंबर वन बन रहे शहर में अपना...
बिजली बिल नए साल का, सील बीत...
मां तुम उठ क्यों नहीं रही हो...
लाखों की धोखाधड़ी, पुलिस नही...
चने की अच्छी कीमत मिलने के आ...
छेड़खानी की रिपोर्ट करने पर ...
पसीने की क माई हड़प रहे सूदख...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: