होंगे 7 अरब डॉलर के रक्षा सौदे*बाढ़ राहत के लिए खुले भारत सीमा*तबाही के मंजर के बीच 3577 बच्चों का जन्म*भारी बारिश के कारण असम के कई गांव जलमग्न*कश्मीर के बाद गुवाहाटी में प्रकृति का कहर*पिंजरे में गिरा युवक बाघ ने मार डाला*आसाराम को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं*सिंडिकेट बैंक के सीएमडी बर्खास्त*हेलीकाप्टर सौदे में पहली गिरफ्तारी*अब फिंगर प्रिंट के जरिए मिलेगा राशन*
दिल्ली के चिड़ियाघर के पिंजरे में गिरा युवक बाघ ने मार डाल
ट्रेन में एसएमएस पर मिलेगा ब्रांडेड खाना
भारत में मरते है सबसे ज्यादा नवजात बच्चे
डांस करने पर जेल और 91 कोड़े की सजा
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
तीन माह में तीन कार्यवाही तक सीमित
On 6/15/2012 8:28:20 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

जबलपुर। वाणिज्यिक कर विभाग में इन दिनों जहां स्थानांतरण का दौर चल रहा है, वहीं अधिकारियों की उदासीनता या कहें कि राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते औचक निरीक्षण से लेकर छापा कार्यवाही तक के काम लगभग ठप पड़े हैं। स्थिति यह है कि वित्तीय वर्ष 2012-13 की पहल तिमाही गुजरने को है, लेकिन अब तक विभागीय अमले ने सिर्फ 3 स्थानों पर छापा कार्यवाही की है, वहीं पैनाल्टी वसूली का आंकड़ा 4 करोड़ रुपए के करीब है, जबकि इस वक्त तक यहा आंकड़ा इसे तीन से चार गुना अधिक होना चाहिए था।। खास बात यह है कि वाणिज्यिक कर की टीम को मुख्यालय से लेकर अधिकारियों तक के द्वारा जांच के दौरान नरम रुख अपनाने और सख्ती न करने के मौखिक आदेश दिये जा रहे हैं।गौरतलब है कि इन दिनों वाणिज्यिक कर की टीम को इंदौर स्थित मुख्यालय से काम करने की स्वतंत्रता न मिल पाने की वजह से जहां विभागीय अमला असहाय महसूस कर रहा है, वहीं शासकीय राजस्व को भी भारी नुकसान हो रहा है। सूत्रों की माने तो हालात यह है कि बीते दो माह से उन्हें किसी भी प्रकार की कार्यवाही न करने के आदेश है। यदि अधिकारियों की टीम जांच के लिए निकलती भी है तो उन्हें उपायुक्त स्तर के अधिकारियों से अनुमति लेनी होती है, जबकि नियमानुसार जांच पर निकले सीटीओ को पैनाल्टी वसूली करने के अधिकार प्राप्त होते हैं।

 

अब व्यापारियों की रहेगी चांदी

वाणिज्यिक कर अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि एक तरफ मुख्यालय से संभागीय कार्यालय को टारगेट दिये जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ कर चोरी कर रहे व्यापारियों के खिलाफ कार्यवाही न करने के मौखिक आदेश प्रदेश के बड़े नेता देते हैं। मुख्यालय में बैठे अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि यदि खुलकर बोले तो अब आगामी विधानसभा चुनाव तक व्यापारियों की चांदी होगी और वाणिज्यिक कर विभाग की तरफ से कोई बड़ी कार्यवाही किये जाने की संभावना कम होगी, जिसकी वजह व्यापारियों और राजनेताओं के बीच की सैटिंग है।

छापा मारने के पूर्व चाहिए एश्योरेंस

अधिकारियों की माने तो वे संभागीय स्तर किसी भी व्यापारी के खिलाफ छापा कार्यवाही करने प्रस्ताव भेजते हैं तो उनसे इस बात का स्पष्ट एश्योरेंस मांगा जाता है कि यदि पैनाल्टी एक करोड़ की होती है तब तो ठीक है वर्ना अनुमति मिलना मुश्किल होता है। अधिकारी बताते है कि कोई भी छापा कार्यवाही दस्तावेजों और शक के आधार पर की जाती है। ऐसे में पहले से किसी भी आंकड़े पर एश्योर कर पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है।

Post Comments
More News
गुरुजी देख रहे संविदा शिक्षक...
पार्षद बनने का सपना संजोने व...
पदाधिकारी के निष्कासन से भाज...
भेदभाव का शिकार आईटीआई रिसोर...
दुर्गा पूजा के पहले बंगाली क...
टक्कर से युवक की मौत...
पड़ोसी की हत्या का प्रयास...
सिहोरा से अपहृत किशोरी भोपाल...
क्षेत्र को लेकर टकराए किन्नर...
अब भी काम कर रहा बर्खास्त सर...
आरडीयू महिला कर्मी ने पिया ज...
जनता की शिकायतों पर तत्काल क...
बिलावल भुट्टो के बयान पर आक्...
पुलिस ने नहीं सुनी पीड़ा, मह...
जनशताब्दी में लगेगा म्यूजिक ...
आज पदभार ग्रहण करेंगे नए आईज...
सुनिश्चित करना होगा मूल उद्द...
बेहतर मैनेजमेंट के लिए मिला ...
समस्याओं का दंश झेल रहे नागर...
बार और बेंच रथ के दो पहिए: म...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: