चोर गिरोह से साढ़े चार लाख का माल बरामद*लोडिंग ऑटो का गेट खुला, बालक की मौत*लड़की का झांसा देकर स्कार्पियो लूटने वाले पकड़ाए*टैक्सी लूट कांड में दो हिरासत में*पौने तीन सौ बदमाश लगे पुलिस के हाथ*ऑनलाइन एडमिशन की खामियों को करें दूर*नेहरू पार्क स्वीमिंग पूल बंद होने पर तैराकों का हं*अगर मरीज को परेशानी हो तो सीधे कर सकते हैं शिकायत*55 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चली हवा*छोटे उद्योगों को सशक्त करने की योजना: सिंधिया*
श्रीश्री रविशंकर ने यूरोपीय संसद को बताई योग की महिमा
विदेश जाने की अनुमति देने से किया इंकार पचौरी ने वापस ली अ
प्रदेश के प्रत्येक विश्वविद्यालय में पुलिस चौकी खोली जाए
गौरीकुंड से केदारनाथ यात्र को पैदल निकले राहुल गांधी
मुख्यपृष्ठ राष्ट्रीय विश्व शहर  व्यापार खेल मनोरंजन शिक्षा सम्पादकीय क्लासिफाइड Appointment पत्रिकाएँ आज का पंचांग
तीन माह में तीन कार्यवाही तक सीमित
On 6/15/2012 8:28:20 PM

Change font size:A | A

Print

E-mail

Comments

Rating

Bookmark

जबलपुर। वाणिज्यिक कर विभाग में इन दिनों जहां स्थानांतरण का दौर चल रहा है, वहीं अधिकारियों की उदासीनता या कहें कि राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते औचक निरीक्षण से लेकर छापा कार्यवाही तक के काम लगभग ठप पड़े हैं। स्थिति यह है कि वित्तीय वर्ष 2012-13 की पहल तिमाही गुजरने को है, लेकिन अब तक विभागीय अमले ने सिर्फ 3 स्थानों पर छापा कार्यवाही की है, वहीं पैनाल्टी वसूली का आंकड़ा 4 करोड़ रुपए के करीब है, जबकि इस वक्त तक यहा आंकड़ा इसे तीन से चार गुना अधिक होना चाहिए था।। खास बात यह है कि वाणिज्यिक कर की टीम को मुख्यालय से लेकर अधिकारियों तक के द्वारा जांच के दौरान नरम रुख अपनाने और सख्ती न करने के मौखिक आदेश दिये जा रहे हैं।गौरतलब है कि इन दिनों वाणिज्यिक कर की टीम को इंदौर स्थित मुख्यालय से काम करने की स्वतंत्रता न मिल पाने की वजह से जहां विभागीय अमला असहाय महसूस कर रहा है, वहीं शासकीय राजस्व को भी भारी नुकसान हो रहा है। सूत्रों की माने तो हालात यह है कि बीते दो माह से उन्हें किसी भी प्रकार की कार्यवाही न करने के आदेश है। यदि अधिकारियों की टीम जांच के लिए निकलती भी है तो उन्हें उपायुक्त स्तर के अधिकारियों से अनुमति लेनी होती है, जबकि नियमानुसार जांच पर निकले सीटीओ को पैनाल्टी वसूली करने के अधिकार प्राप्त होते हैं।

 

अब व्यापारियों की रहेगी चांदी

वाणिज्यिक कर अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि एक तरफ मुख्यालय से संभागीय कार्यालय को टारगेट दिये जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ कर चोरी कर रहे व्यापारियों के खिलाफ कार्यवाही न करने के मौखिक आदेश प्रदेश के बड़े नेता देते हैं। मुख्यालय में बैठे अधिकारी नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि यदि खुलकर बोले तो अब आगामी विधानसभा चुनाव तक व्यापारियों की चांदी होगी और वाणिज्यिक कर विभाग की तरफ से कोई बड़ी कार्यवाही किये जाने की संभावना कम होगी, जिसकी वजह व्यापारियों और राजनेताओं के बीच की सैटिंग है।

छापा मारने के पूर्व चाहिए एश्योरेंस

अधिकारियों की माने तो वे संभागीय स्तर किसी भी व्यापारी के खिलाफ छापा कार्यवाही करने प्रस्ताव भेजते हैं तो उनसे इस बात का स्पष्ट एश्योरेंस मांगा जाता है कि यदि पैनाल्टी एक करोड़ की होती है तब तो ठीक है वर्ना अनुमति मिलना मुश्किल होता है। अधिकारी बताते है कि कोई भी छापा कार्यवाही दस्तावेजों और शक के आधार पर की जाती है। ऐसे में पहले से किसी भी आंकड़े पर एश्योर कर पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है।

Post Comments
More News
जाओ दवाएं बाहर से खरीद लो...
घर से निकली किशोरियां नरसिंह...
डम्परों के खिलाफ कार्यवाही स...
गला घोंटकर की गई थी किसान के...
गलत पार्किग के कारण बिगड़ रह...
‘वर्ल्ड अर्थ डे’ पर विद्यार्...
खतरनाक खरपतवारों से निपटना ब...
पृथ्वी में जलवायु परिवर्तन ह...
लापरवाही के चलते हितग्राही प...
प्रेम सागर क्षेत्र में फैल स...
खरीदी केंद्रों का करो औचक नि...
खरीदी केंद्रों का करो औचक नि...
सिमी खजांची कोर्ट में पेश...
आरक्षक ने गर्भवती के पेट में...
कर्नल के बंगले के पास हिरण क...
हाईकोर्ट की भोपाल बैंच के वि...
पर्स मुझे दे दो वर्ना ठीक नह...
जिम्मेदारों की अनुपस्थिति से...
भर्तियां करने कूटनीति पर उतर...
अतिक्रमण किए साफ, 29 पर चाला...
अवैधानिक तरीके से गठित हुई ए...
रसूखदारों पर प्यार, गरीबों क...
नहीं सुन रही गढ़ा पुलिस एसपी...
आरटीओ विभाग के कई मामले ठंडे...
लीज निरस्तीकरण पर दायर याचिक...
इंजीनियरिंग छात्र की हत्या क...
दबंग काटने नहीं दे रहा फसल...
नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों...
दिन में रैकी, रात को चोरी...
पत्रकारवार्ता की राशि आईएमए ...
शेफ की भूमिका में छात्रएं, छ...
दर्जन भर धोबी नौकरी पर फिर भ...
संस्कृति एवं संस्कारों को सह...
बैंड-बाजे के साथ आई बारात...
बिजली कटौती का मास्टर प्लान...
वेयर हाउस में रखी धान की बोर...
विद्युत पोल से टकराई बाइक के...
अजमेर भेजने वाली चादर जबलपुर...
कृषि उत्पादन में वृद्धि पर ह...
इंटरनल मार्क्‍स में देरी पर ...
सब्जियों के दाम ने खड़े किए ...
अंग्रेजी-संस्कृत की उत्तर पु...
सुविधानुसार होगा संभागीय कार...
द्रोणिका फिर बदल सकती है मौस...
विकास के प्रति गंभीर नहीं जन...
 सम्पर्क करें  विज्ञापन दरें आपके सुझाव संस्थान
© Copyright of Rajexpess 2009,all right reserved.
Developed & Designed By: