• 14 साल की लड़की को बंधक बना 1000 लोगों से बनवाया शारीरिक संबंध
  • प्रशांत भूषण को पीटने वाले को बीजेपी ने बनाया प्रवक्ता
  • राजस्थान: लैंडिंग से पहले बाड़मेर में क्रैश हुआ सुखोई, दोनों पायलट सुरक्षित
  • 'लालू परिवार' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को पांचवां प्रांत घोषित करने की तैयारी में पाकिस्तान
  • सिद्धू को मिल सकता है कांग्रेस से झटका, अमरिंदर नहीं चाहते कोई डिप्टी CM
  • लोकसभा में भाजपा सांसदों ने किया पीएम मोदी का स्वागत, लगे 'जयश्री राम' के नारे
  • पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद आम आदमी पार्टी में फूट के आसार!

होम |

भोपाल

एक महाविद्यालय में हुई रैंगिंग मामले में आयोग ने मांगी विस्तृत रिपोर्ट

By Raj Express | Publish Date: 3/20/2017 4:44:09 PM
एक महाविद्यालय में हुई रैंगिंग मामले में आयोग ने मांगी विस्तृत रिपोर्ट
भोपाल। मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने इंदौर के एक महाविद्यालय में हुई रैंगिंग के मामले में उच्च शिक्षा विभाग और पुलिस उप महानिरीक्षक से विस्तृत रिपरेट मांगी है। आज जारी विज्ञप्ति में आयोग ने पुलिस उप महानिरीक्षक इंदौर से कहा है कि वे पुलिस विवेचना में रही कमियों को दूर करने के लिए न्यायालय की अनुमति से आगे की विवेचना कर पूरक चालान पेश करे। रैगिंग संबंधी बिंदुओं की जांच करें। आवेदक छात्र की 07 सितम्बर,16 को शर्ट उतरवाई गई थी। जिसे 08 सितम्बर,16 की घटना से जोड़कर देखा जाना चाहिए था। उसकी नाक, मुंह से खून आने, थाने में सूचना देने और प्राचार्य से शिकायत का उल्लेख एफआईआर और कथन में नहीं किया गया जिसका उपयोग विवेचना में किया जाना चाहिए था।
इसी तरह आयोग ने उच्च शिक्षा विभाग से जानना चाहा है कि पीड़ित छात्र शिवम को मानव अधिकार संरक्षण अधिनियम के तहत 50 हजार की क्षतिपूर्ती राशि दिए जाने की अनुशंसा क्यों न की जाय। आयोग ने उच्च शिक्षा विभाग से यह भी कहा है कि वह कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ नियमों के मुताबिक और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अधिनियम के अनुसार कार्यवाही कर आयोग को अवगत कराएं। 
Contact us: contact@rajexpress.com
Copyright © 2016 RajExpress.com. All Rights Reserved.
Designed by : 4C Plus